एसएलए - सेवा स्तर समझौते आप और आपके प्रदाता और सुनिश्चित करें कि आप लाइन से लाइन के माध्यम से इसे पढ़ने और समझने वहाँ क्या उल्लेख किया है बनाने के बीच एक महत्वपूर्ण अनुबंध है। कई प्रदाताओं, SLAs में छिपा नियम का उल्लेख के रूप में अपने विज्ञापन के लिए विरोध किया जाएगा। उदाहरण के लिए, जबकि विज्ञापन वे कह सकते हैं कि वे बैकअप, जहां SLAs के रूप में वे कहते हैं बैकअप लिया जाता है, लेकिन नहीं की गारंटी प्रदान करेगा। कुछ भी जोड़ना होगा कि बैकअप के लिए ग्राहक की जिम्मेदारियां हैं। इसलिए, भले ही कुछ अपने सर्वर के लिए होता है और प्रदाता बैकअप वे तुम उस के लिए कोई मुआवजा प्रदान करने के लिए जिम्मेदार नहीं हैं की जरूरत नहीं है, क्योंकि आप पहले से ही सेवा स्तर समझौते जो इन सभी का उल्लेख किया था पर हस्ताक्षर किए थे।
I'v tested some other top VPS Providers/resellers (AWS, Digital Ocean, Vultr, etc.) and find that VPSServer.com offer highest performance/price ratio on market. One of the highest (top 3) IOPS, Unixbench and Network perfomance at lowest price from my research. Setting up server with operating systems is matter of few minutes. Managing is simple and clear.

Intellisense function guide: the SUM(number1,[number2], …) floating tag beneath the function is its Intellisense guide. If you click the SUM or function name, it will change o a blue hyperlink to the Help topic for that function. If you click the individual function elements, their representative pieces in the formula will be highlighted. In this case, only B2:B5 would be highlighted, since there is only one number reference in this formula. The Intellisense tag will appear for any function.
The hypothetical performance results displayed on this website are hypothetical results in that they represent trades made in a demonstration (“demo”) account. Transaction prices were determined by assuming that buyers received the ask price and sellers the bid price of quotes Zulutrade receives from the Forex broker at which a Signal Provider maintains a demo account. The hypothetical results do not include any additional mark-ups or commissions which may be charged by a customer’s Forex broker and are based on a one lot trade size. Trades placed in demo accounts are based on a Signal Provider having access to an unlimited amount of funds. As a result, demo accounts are not subject to margin calls and have the ability to withstand large, sustained drawdowns which a customer account may not be able to afford. Trades placed in demo accounts are not subject to price slippage which may occur when a signal is actually traded in a customer account. The number of pips gained or lost by each Signal Provider may be based on the trading of mini, micro or standard lots. The performance of customers electing to trade a different lot size from those used by a Signal Provider will therefore vary. Further, customers may place trades independent of those provided by a Signal Provider or place customized orders to exit positions which differ from those of a Signal Provider. All performance results presented only include the results of completed trades and do not reflect the profit or loss on open positions. Due to differences in the bid/ask offered by various counterparties, all trades executed in the account of a Signal Provider may not be executed in a customer account if the bid/ask of the Forex broker at which the customer maintains the customer’s account is different from that of the Signal Provider’s broker or due to volatility in the market. Customers may elect not to follow all of the trading signals provided by the signal providers or be able trade the recommended number of contracts due to insufficient funds in an account. Therefore, the results portrayed are not indicative of an account which may have traded all a Signal Provider’s signals or contracts. Further, by electing to follow a number of different Signal Providers at one time, customers may not be able to follow all of the signals generated due to the customer’s account having insufficient funds. Accordingly, the performance of customer accounts may vary signicantly from the results portrayed on this website.
वर्चुअल प्राइवेट सर्वर को भी हम एक उदाहरण द्वारा ही समझते है मान लीजिये एक बड़ी सी बिल्डिंग है उसमे छोटे छोटे कमरे बना दिए गए है और उन्हें किराये पर उठा दिया जाता है जो व्यक्ति उस कमरे को किराये पर लेता है उसका उस पर उसका पूर्ण अधिकार होता है और कोई भी उसमे नहीं रह सकता है ठीक उसी प्रकार वर्चुअल प्राइवेट सर्वर काम करता है इसमें एक सर्वर को अलग अलग भागो में बाट दिया जाता है जिस भाग में जो वेबसाइट रहती है उसमे उसका पूर्ण अधिकार होता है और कोई वेबसाइट उसमे नहीं रहती है एक तरह से ये उसका प्राइवेट सर्वर होता है 
एकाधिक VPS (आभासी निजी सर्वर) एक ही सर्वर एक ही हार्डवेयर के साथ साझा करें (डिस्क, CPU, स्मृति, संबंध). परिणामी प्रदर्शन समस्याओं जब http पृष्ठों की सेवा नहीं दिखाई देते हैं, जबकि, फ्रेम घटाने/लेटेंसी/ठंड अस्थायी हो सकता है एक VPS पर रहते धाराओं में, कैसे अन्य VPS एक ही सर्वर पर साझा किए गए भौतिक संसाधनों और अस्थायी उपयोग के आधार पर ये ताला. कब 4-12 VPS ही 100Mbps सर्वर कनेक्शन साझा करें, जो करने के लिए simultaneous उपयोगकर्ताओं की संख्या सीमित कर सकते हैं 10-20. आप एक VPS के लिए उत्पादन मोड का उपयोग कर से बचना चाहिए.
ऑपरेटिंग सिस्टम - सबसे प्रदाताओं आप ओएस आप की आवश्यकता चुनने देता है। विंडोज और लिनक्स ओएस सबसे अधिक उपलब्ध हैं, और लिनक्स के जायके का एक बहुत भी उपलब्ध हैं। विंडोज अपने लाइसेंस के कारण एक छोटे महंगा है और के रूप में यह खुला स्रोत है लिनक्स मुक्त है। आप अपनी आवश्यकताओं के आधार पर चयन करने के लिए की जरूरत है। उदाहरण के लिए, यदि आप एएसपी फ़ाइलें चलाना चाहते हैं, तो आप Windows ही चयन करना चाहिए एएसपी लिनक्स में नहीं चल सकता है।
क्लाउड कंप्यूटिंग इंटरनेट आधारित एक कंप्यूटिंग पावर है, जिसका केंद्र क्लाउड होता है। इसका नाम इसकी बादलों जैसी जटिल संरचना वाले सिस्टम डायग्राम के कारण पड़ा है। यूजर्स के डाटा, सेटिंग आदि सभी सर्वर पर स्टोर होते हैं, जिसे क्लाउड कहा जाता है। इन दिनों क्लाउड कंप्यूटिंग का इस्तेमाल तेजी से होने लगा है। अब कंपनियां अपनी जरूरत के हिसाब से हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर हायर कर रही हैं। मिसाल के तौर पर मान लीजिए किसी को 6 महीने के प्रोजेक्ट के लिए सर्वर, हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर की जरूरत है। ये सारी चीजें खरीदने पर लाखों रुपये का खर्च आएगा, लेकिन क्लाउड्स यूज करने पर बहुत कम दाम में और निश्चित समय के लिए ये सुविधाएं आसानी से मिल सकेंगी।
इंटरनेट मे आपके ब्लॉग या वेबसाइट के लिए एक जगह की जरुरत होती है जिसे हम इंटरनेट की भाषा मे वेब होस्टिंग(web hosting) कहते है  जब हम इंटरनेट मे होस्टिंग खरीदते है तो हमें इंटरनेट मे एक स्पेस यानि जगह मिलती है जहा हमारा ब्लॉग या वेबसाइट एक्टिव रहता है और इस जगह को हम जो भी नाम देते है जिससे लोग हमारे वेबसाइट या ब्लॉग को देखते है उसे हम डोमेन कहते है 
Dedicated servers need security options so that you can protect your website against hackers, viruses, and breakage. Firewall configurations are important but time-consuming. Some hosting providers will provide extra built-in security features, so you do not have to worry about it and get started with your server without any security to install except for additional options that you may want.
Cloud hosting वो method है जिसमे customers की requirements के base पर customized online virtual servers create, modify एवं remove किये जा सकते है | Cloud hosting को website host, emails store करने के लिए एवं web-based services को distributed करने के लिए use मे लेते है | Cloud servers actually मे Physical server पर hosted virtual machines है जिन पर CPU, memory, storage आदि resources allocated करने के बाद client की requirement के according OS और दूसरे software configure किया जाते है | जब आप अपनी website को cloud पर host करते है तो website अपनी requirement के लिए, servers cluster के virtual resources को use करती है | 
×