Cloud या cloud कंप्यूटिंग एक ऐसी आधुनिक तकनीक है जिससे आप अपनी IT क्षमताओं का विकास अपनी इच्छा अनुसार या अपने business की जरूरतों के हिसाब से कर सकते हैं और उनको कहीं भी – दफ्तर, घर या छुट्टियों में गए किसी रमणीक स्थल पर इस्तेमाल कर सकते हैं क्योंकि क्लाउड किसी नेटवर्क जैसे इंटरनेट के द्वारा प्राप्य है | ये IT क्षमताओं को ‘as a service’ उपलब्द्ध कराता है, जैसे software applications, storage, network, interface, infrastructure आदि |

सी / बी। किसी भी साझा या पुनर्विक्रेता खाते पर दो सौ पचास हजार (250,000) इनोड का उपयोग चेतावनी हो सकता है, और यदि इनोड के अत्यधिक उपयोग को कम करने के लिए कोई कार्रवाई नहीं की जाती है, तो आपका खाता निलंबित कर दिया जा सकता है। यदि एक खाता एक सौ हजार (100,000) इनोड से अधिक है तो इसे अधिक उपयोग से बचने के लिए स्वचालित रूप से हमारे बैकअप सिस्टम से हटा दिया जाएगा, हालांकि, डेटाबेस को अभी भी हमारे विवेक में सौजन्य के रूप में बैक अप लिया जाएगा।
The force driving server virtualization is similar to that which led to the development of time-sharing and multiprogramming in the past. Although the resources are still shared, as under the time-sharing model, virtualization provides a higher level of security, dependent on the type of virtualization used, as the individual virtual servers are mostly isolated from each other and may run their own full-fledged operating system which can be independently rebooted as a virtual instance.
मैं शून्य समस्याओं के साथ 2011 के बाद होस्टगेटर का उपयोग कर रहा हूं। मैं उनके पास बहुत अच्छा चैट समर्थन है। किसी भी समय मुझे कोई समस्या या प्रश्न होने पर वे बहुत मददगार होते हैं। वे कभी-कभी तकनीकी प्रश्नों का उत्तर देने में सक्षम होते हैं जो होस्टिंग से संबंधित नहीं हैं! हाल ही में एकमात्र मुद्दा जो मैंने चलाया है, चैट समर्थन के लिए अधिक प्रतीक्षा समय है ...

वेब होस्टिंग क्या है इसके बारे मे तो आपने जन लिया है अब ये web hosting कितने प्रकार की होती इससे जाना भी जरुरी है वैसे तो वेब होस्टिंग के बहोत से प्रकार होते है उदाहरण के लिए : शेयर्ड होस्टिंग (shared hosting), VPS वर्चुअल प्राइवेटसर्वर( Virtual Private Server),डेडिकेटेड होस्टिंग(Dedicated Hosting) और क्लाउड होस्टिंग(Cloud hosting) आइये इनके बारे मे एक एक कर के जान लेते है
वैसे ही जैसे साझा होस्टिंग, VPS भी होस्टिंग में आप किसी भी हार्डवेयर विशिष्टताओं या हार्डवेयर मुद्दों है कि पर पहुंच जाएं, के बारे में परेशान होना, के रूप में यह सिर्फ सर्वर है कि तुम बाहर किराए पर ले रहे का एक हिस्सा है की जरूरत नहीं है, और हार्डवेयर से संबंधित समस्याओं की जरूरत है अपनी सहायता टीम द्वारा ध्यान रखा। लेकिन यदि आप के मालिक हैं? एक समर्पित सर्वर, आप सर्वर के बारे में सब कुछ के लिए जिम्मेदार हैं।

अनुमापकता - आप किसी भी समय आप चाहते हैं उन्नयन कर सकते हैं। उदाहरण के लिए यदि आपके वेबसाइटों और अधिक स्मृति की आवश्यकता होती है, तो आप बस रैम अपने प्रदाता से संपर्क करके जोड़ सकते हैं।? अपने VPS संसाधनों की बहुत सारी के साथ एक कंटेनर के अंदर रखा गया है, और अपने प्रदाता बस एक इंटरफेस के माध्यम से अपने VPS के लिए और अधिक रैम जोड़ सकते हैं। किसी के लिए कोई जरूरत नहीं शारीरिक रूप से रैम जोड़ने के लिए अपने सर्वर में एक रैम डालने के लिए नहीं है। यही कारण है कि आप और अधिक लचीलापन, जैसा कि आप सिर्फ संसाधन आप की जरूरत है खरीद करने के लिए की जरूरत है, अगली योजना को उन्नत करने की जरूरत नहीं देता है। इसी तरह आप भी हानि के बिना राम या अन्य संसाधनों डाउनग्रेड करने के लिए अनुरोध कर सकते हैं।


हालांकि वहां आवेष्टित के एक बहुत हैं आप, खोजना चाहिए कि प्रदर्शन बेहतर है। तथ्य यह है कि आप संसाधनों को साझा नहीं कर रहे हैं निश्चित रूप से प्रदर्शन में सुधार होगा। लेकिन आप यह भी सुनिश्चित करना आपकी साइट को सुचारू रूप से चल रहा है की आवश्यकता होगी, और आप एक टोंटी तक पहुंचे बिना अपनी चुनी सॉफ्टवेयर के सभी चलाने के लिए पर्याप्त संसाधनों की आवश्यकता होगी।
वेब होस्टिंग क्या है इसके बारे मे तो आपने जन लिया है अब ये web hosting कितने प्रकार की होती इससे जाना भी जरुरी है वैसे तो वेब होस्टिंग के बहोत से प्रकार होते है उदाहरण के लिए : शेयर्ड होस्टिंग (shared hosting), VPS वर्चुअल प्राइवेटसर्वर( Virtual Private Server),डेडिकेटेड होस्टिंग(Dedicated Hosting) और क्लाउड होस्टिंग(Cloud hosting) आइये इनके बारे मे एक एक कर के जान लेते है
वर्चुअलाइजेशन, कम्प्यूटरीकृत ढांचे को भौतिक वातावरण से अलग करता है। वर्चुअलाइजेशन आपको एक ही सिस्टम पर विभिन्न ऑपरेटिंग सिस्टम और एप्लिकेशन चलाने में मदद करता है। वर्चुअलाइजेशन वह तकनीक है जो आपको एकल, भौतिक हार्डवेयर सिस्टम से कई नकली वातावरण या समर्पित संसाधन बनाने की अनुमति देती है। वर्चुअलाइजेशन के माध्यम से, हम सर्वर समेकन की योजना बनाते हैं जिसके द्वारा हम विभिन्न कार्यक्षमता के साथ कई सर्वर बनाए रखते हैं। सर्वर वर्चुअलाइजेशन आपको कई प्रयोजनों के लिए एक ही सर्वर के भार को संतुलित करने के लिए संसाधनों को विभाजित करने की अनुमति देता है। वर्चुअलाइजेशन सॉफ्टवेयर आपको एक भौतिक सर्वर के संसाधनों को कई अलग-अलग आभासी वातावरण बनाने के लिए विभाजित करता है।
All formula entries begin with an equal sign (=). For simple formulas, simply type the equal sign followed by the numeric values that you want to calculate and the math operators that you want to use  — the plus sign (+) to add, the minus sign (-) to subtract, the asterisk (*) to multiply, and the forward slash (/) to divide. Then, press ENTER, and Excel instantly calculates and displays the result of the formula.

क्लाउड कंप्यूटिंग इंटरनेट आधारित एक कंप्यूटिंग पावर है, जिसका केंद्र क्लाउड होता है। इसका नाम इसकी बादलों जैसी जटिल संरचना वाले सिस्टम डायग्राम के कारण पड़ा है। यूजर्स के डाटा, सेटिंग आदि सभी सर्वर पर स्टोर होते हैं, जिसे क्लाउड कहा जाता है। इन दिनों क्लाउड कंप्यूटिंग का इस्तेमाल तेजी से होने लगा है। अब कंपनियां अपनी जरूरत के हिसाब से हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर हायर कर रही हैं। मिसाल के तौर पर मान लीजिए किसी को 6 महीने के प्रोजेक्ट के लिए सर्वर, हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर की जरूरत है। ये सारी चीजें खरीदने पर लाखों रुपये का खर्च आएगा, लेकिन क्लाउड्स यूज करने पर बहुत कम दाम में और निश्चित समय के लिए ये सुविधाएं आसानी से मिल सकेंगी।
अलग सर्वर लगाने में कम से 22 लाख का खर्च था, इसलिए एनआईसी दिल्ली से वार्ता की। शुरू में उन्हें बताया गया कि यूपी में किसी विवि को एनआईसी ने अब तक अपना सर्वर नहीं दिया है मगर अंतत: बात बन गई और एनआईसी सर्वर उपलब्ध कराने को राजी हो गया। कुलपति प्रो. वीके सिंह ने बताया कि एनआईसी दिल्ली ने सर्वर पर जगह दे दी है। इसके बदले कुछ किराया देना पड़ेगा। मार्च से संयुक्त प्रवेश परीक्षा का काम इसी सर्वर पर किया जाएगा।
Cloud hosting की help से website का peak load (without any bandwidth issue) conveniently manage किया जा सकता है क्योकि इस case मे cluster का other server additional resources उस server को offer कर सकता है | इस प्रकार website को किसी एक single server के resources पर depend नहीं रहना पड़ता क्योकि बहुत सारे server, cluster मे काम करते हुए अपने resources share करते है | 
×