VPS आभासी निजी सर्वर के लिए खड़ा है, और यह की मेजबानी करता है, तो आप एक बुनियादी साझा होस्टिंग योजना विकसित हो जाना आपके सामने आने वाली एक प्रकार की है। VPS होस्टिंग और अधिक नियंत्रण, और अपनी वेबसाइट के साथ और अधिक उन्नत काम करने की क्षमता के साथ एक आंशिक रूप से अलग वातावरण प्रदान करता है। सर्वर अंतरिक्ष कंटेनर में बांटा गया है, और उन संयमी सर्वर कम जोखिम से ग्रस्त हैं।
प्रलेखन - बादल होस्टिंग, पारंपरिक होस्टिंग के रूप में नहीं के रूप में आम किया जा रहा है, नई सुविधाओं जो आसानी से गैर तकनीकी लोगों द्वारा समझा जा नहीं रहे हैं की एक बहुत प्रदान करता है। यहां तक ​​कि अपने तकनीकी टीम सुविधाओं को समझते हैं और इसे ठीक से उपयोग शुरू करने के लिए कुछ समय लग सकता है। इसलिए एक उचित दस्तावेज, एक विस्तृत ढंग से, महत्वपूर्ण है, जबकि बादल होस्टिंग के साथ हस्ताक्षर है।
Dedicated servers need security options so that you can protect your website against hackers, viruses, and breakage. Firewall configurations are important but time-consuming. Some hosting providers will provide extra built-in security features, so you do not have to worry about it and get started with your server without any security to install except for additional options that you may want.
वर्चुअलाइजेशन एक वर्चुअल (कुछ के बजाय वास्तविक) संस्करण का निर्माण है, जैसे कि एक सर्वर, एक डेस्कटॉप, एक भंडारण उपकरण, एक ऑपरेटिंग सिस्टम या नेटवर्क संसाधन। यह कंप्यूटर हार्डवेयर जैसी किसी चीज़ का वर्चुअल संस्करण बनाने की प्रक्रिया है। एक वर्चुअल मशीन एक ऐसा वातावरण प्रदान करती है जो तार्किक रूप से अंतर्निहित हार्डवेयर से अलग हो जाती है। निजीकरण वह तकनीक है जो हार्डवेयर से कार्यों को अलग करती है, जबकि बादल उस विभाजन पर भरोसा करते हैं। वर्चुअलाइजेशन क्लाउड कंप्यूटिंग का प्लेटफॉर्म है या वर्चुअलाइजेशन क्लाउड कंप्यूटिंग का आधार है। वर्चुअलाइजेशन मौलिक प्रौद्योगिकी है जो क्लाउड कंप्यूटिंग के लिए निर्देशन करती है।

वेब होस्टिंग क्या है इसके बारे मे तो आपने जन लिया है अब ये web hosting कितने प्रकार की होती इससे जाना भी जरुरी है वैसे तो वेब होस्टिंग के बहोत से प्रकार होते है उदाहरण के लिए : शेयर्ड होस्टिंग (shared hosting), VPS वर्चुअल प्राइवेटसर्वर( Virtual Private Server),डेडिकेटेड होस्टिंग(Dedicated Hosting) और क्लाउड होस्टिंग(Cloud hosting) आइये इनके बारे मे एक एक कर के जान लेते है
Cloud hosting की help से website का peak load (without any bandwidth issue) conveniently manage किया जा सकता है क्योकि इस case मे cluster का other server additional resources उस server को offer कर सकता है | इस प्रकार website को किसी एक single server के resources पर depend नहीं रहना पड़ता क्योकि बहुत सारे server, cluster मे काम करते हुए अपने resources share करते है | 
×