वर्चुअल प्राइवेट सर्वर को भी हम एक उदाहरण द्वारा ही समझते है मान लीजिये एक बड़ी सी बिल्डिंग है उसमे छोटे छोटे कमरे बना दिए गए है और उन्हें किराये पर उठा दिया जाता है जो व्यक्ति उस कमरे को किराये पर लेता है उसका उस पर उसका पूर्ण अधिकार होता है और कोई भी उसमे नहीं रह सकता है ठीक उसी प्रकार वर्चुअल प्राइवेट सर्वर काम करता है इसमें एक सर्वर को अलग अलग भागो में बाट दिया जाता है जिस भाग में जो वेबसाइट रहती है उसमे उसका पूर्ण अधिकार होता है और कोई वेबसाइट उसमे नहीं रहती है एक तरह से ये उसका प्राइवेट सर्वर होता है 


इसमें server को छोटे छोटे हिस्सों में बाँट दिया जाता है, आपका वेबसाइट को जितनी भी access की जरुरत होगी वो पूरी की पूरी इस्तेमाल करेगा यहाँ पर किसी भी दूसरे ब्लॉग को जगह नहीं मिलेगी. ये सर्वर security में बहुत ही अच्छे और ये Hosting का इस्तेमाल करने के बाद आपका वेबसाइट किसी अलग site से अपना resource share नहीं करेगा. ये आपको unlimited resource की facility देता है जो आपके वेबसाइट के लिए बहुत सही है.
अलग सर्वर लगाने में कम से 22 लाख का खर्च था, इसलिए एनआईसी दिल्ली से वार्ता की। शुरू में उन्हें बताया गया कि यूपी में किसी विवि को एनआईसी ने अब तक अपना सर्वर नहीं दिया है मगर अंतत: बात बन गई और एनआईसी सर्वर उपलब्ध कराने को राजी हो गया। कुलपति प्रो. वीके सिंह ने बताया कि एनआईसी दिल्ली ने सर्वर पर जगह दे दी है। इसके बदले कुछ किराया देना पड़ेगा। मार्च से संयुक्त प्रवेश परीक्षा का काम इसी सर्वर पर किया जाएगा।
In this modernized version of the Conan Doyle characters, using his detective plots, Sherlock Holmes lives in early 21st century London and acts more cocky towards Scotland Yard's detective inspector Lestrade because he's actually less confident. Doctor Watson is now a fairly young veteran of the Afghan war, less adoring and more active. Written by KGF Vissers

भोपाल। अब आईटी कंपनियों के साथ कॉलेज स्टूडेंट्स भी अपने प्रोजेक्ट्स के लिए क्लाउड रेंट पर ले रहे हैं। इंजीनियरिंग स्टूडेंट्स के एक ग्रुप ने अपने माइनर प्रोजेक्ट्स के तहत एटीएम थेफ्ट को रोकने के लिए एक प्रोजेक्ट बनाया है। इसका डेटा स्टोर करने के लिए स्टूडेंट्स ने माइक्रोसॉफ्ट कंपनी का क्लाउड रेंट पर लिया है। इसमें डेटा सिक्योर रहने के साथ स्पेस की भी कोई प्रॉब्लम नहीं होती है।
बिक्री पर - एक VPS सुचारू रूप से चलाने के लिए, मुख्य नोड जिस पर VPS बनाई गई है VPSs के केवल सीमित संख्या में बनाया जाना चाहिए। अन्यथा संसाधनों को प्रभावी ढंग से वितरित नहीं किया जा सकता है। कुछ प्रदाताओं VPS का एक बहुत से यह वास्तव में, पकड़ कर सकते हैं भारी संसाधनों के उपयोग में जिसके परिणामस्वरूप के साथ मुख्य नोड भरें। दिन के अंत में सभी VPS दुर्गम हो या बहुत धीरे धीरे लोड, यह कुछ भी नहीं के लिए अच्छा कर रही होगी। आप VPS की संख्या में वे एक नोड पर बनाने के बारे में प्रदाता के साथ की जाँच करनी चाहिए, ताकि आप वे बेचने खत्म नहीं करना इस बात की पुष्टि कर सकते हैं।
क्लाउड होस्टिंग के साथ निपटने के मामले में, आप जो भी उपयोग करते हैं उसके लिए आप वास्तव में भुगतान करते हैं। यदि आपकी ज़रूरतें छोटी हैं, तो इसका मतलब है कि आप कम शुल्क का भुगतान करते हैं। जब आप अधिक स्थान का उपयोग करते हैं, तो आप थोड़ा अधिक भुगतान करते हैं। आपकी ज़रूरतें धीरे-धीरे बदलती रहें, आप हमेशा आपके पास की आवश्यकताओं में बदलाव कर सकते हैं। इसके अलावा, क्लाउड कंप्यूटिंग के नेटवर्क में आपके पास विभिन्न सर्वरों को रखकर डाउनटाइम के मुद्दे को बचाया जा सकता है यह आपके लिए गारंटी दे सकता है कि बिना किसी समय सामग्री अनुपलब्ध हो क्योंकि वेब होस्ट डाउनटाइम समस्या हो रही है। यह प्रभाव क्लाउड में उपलब्ध बैंडविड्थ का विस्तार करने के लिए कार्य करता है।क्लाउड पर सहेजे गए डेटा तक पहुंचने के लिए आप चुनाव के ओएस भी चुन सकते हैं। यह विकल्प मुख्यतः विंडोज और लिनक्स के लिए उपलब्ध है। सब कुछ, क्लाउड होस्टिंग की मेजबानी के लिए समर्पित होस्टिंग के आनंद के लिए अनुमति देता है लेकिन कम कीमत के लिए।
आपदा प्रबंधन (Disaster recovery): बड़े बिज़नेस आपदा प्रबंधन के लिए अतिरिक्त आईटी संसाधनो का खर्च वहन कर सकते हैं पर ये SMBs के लिए एक अतिरिक्त खर्च ही होता है क्योंकि आपदा प्रबंधन के लिए इस्तेमाल में लाये गए IT संसाधन खाली पड़े रहते हैं कि आपदा के समय उनका इस्तेमाल किया जायेगा | Cloud SMBs को एक कम खर्चे वाला व सुरक्षित disaster recovery mechanism उपलब्ध कराता है |
Cloud hosting वो method है जिसमे customers की requirements के base पर customized online virtual servers create, modify एवं remove किये जा सकते है | Cloud hosting को website host, emails store करने के लिए एवं web-based services को distributed करने के लिए use मे लेते है | Cloud servers actually मे Physical server पर hosted virtual machines है जिन पर CPU, memory, storage आदि resources allocated करने के बाद client की requirement के according OS और दूसरे software configure किया जाते है | जब आप अपनी website को cloud पर host करते है तो website अपनी requirement के लिए, servers cluster के virtual resources को use करती है | 
×