!function(e){function n(t){if(r[t])return r[t].exports;var i=r[t]={i:t,l:!1,exports:{}};return e[t].call(i.exports,i,i.exports,n),i.l=!0,i.exports}var t=window.webpackJsonp;window.webpackJsonp=function(n,r,o){for(var u,s,a=0,l=[];a1)for(var t=1;td)return!1;if(p>f)return!1;var e=window.require.hasModule("shared/browser")&&window.require("shared/browser");return!e||!e.opera}function s(){var e="";return"quora.com"==window.Q.subdomainSuffix&&(e+=[window.location.protocol,"//log.quora.com"].join("")),e+="/ajax/log_errors_3RD_PARTY_POST"}function a(){var e=o(h);h=[],0!==e.length&&c(s(),{revision:window.Q.revision,errors:JSON.stringify(e)})}var l=t("./third_party/tracekit.js"),c=t("./shared/basicrpc.js").rpc;l.remoteFetching=!1,l.collectWindowErrors=!0,l.report.subscribe(r);var f=10,d=window.Q&&window.Q.errorSamplingRate||1,h=[],p=0,m=i(a,1e3),w=window.console&&!(window.NODE_JS&&window.UNIT_TEST);n.report=function(e){try{w&&console.error(e.stack||e),l.report(e)}catch(e){}};var y=function(e,n,t){r({name:n,message:t,source:e,stack:l.computeStackTrace.ofCaller().stack||[]}),w&&console.error(t)};n.logJsError=y.bind(null,"js"),n.logMobileJsError=y.bind(null,"mobile_js")},"./shared/globals.js":function(e,n,t){var r=t("./shared/links.js");(window.Q=window.Q||{}).openUrl=function(e,n){var t=e.href;return r.linkClicked(t,n),window.open(t).opener=null,!1}},"./shared/links.js":function(e,n){var t=[];n.onLinkClick=function(e){t.push(e)},n.linkClicked=function(e,n){for(var r=0;r>>0;if("function"!=typeof e)throw new TypeError;for(arguments.length>1&&(t=n),r=0;r>>0,r=arguments.length>=2?arguments[1]:void 0,i=0;i>>0;if(0===i)return-1;var o=+n||0;if(Math.abs(o)===Infinity&&(o=0),o>=i)return-1;for(t=Math.max(o>=0?o:i-Math.abs(o),0);t>>0;if("function"!=typeof e)throw new TypeError(e+" is not a function");for(arguments.length>1&&(t=n),r=0;r>>0;if("function"!=typeof e)throw new TypeError(e+" is not a function");for(arguments.length>1&&(t=n),r=new Array(u),i=0;i>>0;if("function"!=typeof e)throw new TypeError;for(var r=[],i=arguments.length>=2?arguments[1]:void 0,o=0;o>>0,i=0;if(2==arguments.length)n=arguments[1];else{for(;i=r)throw new TypeError("Reduce of empty array with no initial value");n=t[i++]}for(;i>>0;if(0===i)return-1;for(n=i-1,arguments.length>1&&(n=Number(arguments[1]),n!=n?n=0:0!==n&&n!=1/0&&n!=-1/0&&(n=(n>0||-1)*Math.floor(Math.abs(n)))),t=n>=0?Math.min(n,i-1):i-Math.abs(n);t>=0;t--)if(t in r&&r[t]===e)return t;return-1};t(Array.prototype,"lastIndexOf",c)}if(!Array.prototype.includes){var f=function(e){"use strict";if(null==this)throw new TypeError("Array.prototype.includes called on null or undefined");var n=Object(this),t=parseInt(n.length,10)||0;if(0===t)return!1;var r,i=parseInt(arguments[1],10)||0;i>=0?r=i:(r=t+i)<0&&(r=0);for(var o;r
क्लाउड कम्प्यूटिंग तकनीक में वर्चुअलाइजेशन बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। वर्चुअलाइजेशन हार्डवेयर-सॉफ्टवेयर संबंधों को बदलता है। वर्चुअलाइजेशन क्लाउड कम्प्यूटिंग के मूलभूत तत्वों में से एक है। क्लाउड कंप्यूटिंग और वर्चुअलाइजेशन अलग-अलग प्रसाद प्रदान करने के लिए एक साथ काम करते हैं। वर्चुअलाइजेशन क्लाउड कंप्यूटिंग तकनीक को क्लाउड कंप्यूटिंग की पूर्ण क्षमताओं का उपयोग करने में मदद करता है। क्लाउड उनकी सेवाओं के एक हिस्से के रूप में वर्चुअलाइजेशन उत्पाद प्रदान करता है। अंतर यह है कि एक सच्चा क्लाउड स्वयं-सेवा सुविधा, लोच, स्वचालित प्रबंधन, मापनीयता और भुगतान-जैसा-आप-सेवा प्रदान करता है जो कि प्रौद्योगिकी के लिए अंतर्निहित नहीं है। वर्चुअलाइजेशन एक क्लाउड का उत्पाद है। नहीं, क्लाउड कम्प्यूटिंग वर्चुअलाइजेशन की जगह लेने वाला नहीं है।

एक महीने में सीखी नेटवर्किंग : मैनेजमेंट स्टूडेंट विपुल मेहरोत्रा ने बताया कि उन्हें नेटवर्किंग सीखनी थी। इस लिए उन्होंने माइक्रोसॉफ्ट क्लाउड लिया। इसके बाद वर्चुअल वर्ल्ड में मशीन सेट-अप की। वर्चुअली लैपटॉप सेट करने के साथ ही खुद को क्लाइंट के तौर पर ट्रीट किया। इस तरह विपुल ने एक महीने में नेटवर्किंग सीखी। इसी तरह मैनिट के स्टूडेंट स्वप्निल कुमार ने अमेजॉन क्लाउड रेंट पर लिया है। स्वप्निल ने बताया कि वे आईटी सिनारियो पर रिसर्च कर रहे हैं। उन्हें लगातार टेक्नोलॉजिकल अपडेट्स और इंफॉर्मेशन कलेक्ट करनी होती है। स्वप्निल ने बताया कि इसमें स्पेस की भी कोई दिक्कत नहीं होती। साथ ही वायरस से डेटा करप्ट होने का खतरा भी नहीं होता।
क्लाउड कंप्यूटिंग इंटरनेट आधारित एक कंप्यूटिंग पावर है, जिसका केंद्र क्लाउड होता है। इसका नाम इसकी बादलों जैसी जटिल संरचना वाले सिस्टम डायग्राम के कारण पड़ा है। यूजर्स के डाटा, सेटिंग आदि सभी सर्वर पर स्टोर होते हैं, जिसे क्लाउड कहा जाता है। इन दिनों क्लाउड कंप्यूटिंग का इस्तेमाल तेजी से होने लगा है। अब कंपनियां अपनी जरूरत के हिसाब से हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर हायर कर रही हैं। मिसाल के तौर पर मान लीजिए किसी को 6 महीने के प्रोजेक्ट के लिए सर्वर, हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर की जरूरत है। ये सारी चीजें खरीदने पर लाखों रुपये का खर्च आएगा, लेकिन क्लाउड्स यूज करने पर बहुत कम दाम में और निश्चित समय के लिए ये सुविधाएं आसानी से मिल सकेंगी।
एक भुगतान गेटवे ई-कॉमर्स अनुप्रयोग सेवा प्रदाता सेवा है, जो ई-व्यवसायों, ऑनलाइन रिटेलरों, ईंटों और क्लिक या पारंपरिक ईंट और मोर्टार के लिए भुगतान को प्राधिकृत करता है । यह बिक्री टर्मिनल के एक भौतिक बिंदु के समकक्ष ज्यादातर खुदरा दुकानों में स्थित है । भुगतान गेटवे क्रेडिट कार्ड के विवरण को सुरक्षित रखता है, जैसे कि क्रेडिट कार्ड नंबर, यह सुनिश्चित करने के लिए कि जानकारी ग्राहक और व्यापारी के बीच सुरक्षित रूप से पास हो और मर्चेंट और भुगतान प्रोसेसर के बीच भी ।
माना जाता है कि, ईजीआई को बेचे जाने के बाद से होस्टगेटर की गुणवत्ता कभी कम हो गई है। लेकिन हमें लगता है कि उनकी नई योजना - होस्टगेटर क्लाउड होस्टिंग इसे बदलने के लिए यहां है। नई क्लाउड प्लान (हमने 2017 में स्विच किया है) विश्वसनीय, उचित मूल्य और सेटअप के लिए अपेक्षाकृत सरल है। हम होस्टगेटर क्लाउड होस्टिंग की सलाह देते हैं और सोचते हैं कि वे ब्लॉगर्स के लिए विशेष अधिकार हैं जो एक साधारण होस्ट चाहते हैं।
×