भोपाल। अब आईटी कंपनियों के साथ कॉलेज स्टूडेंट्स भी अपने प्रोजेक्ट्स के लिए क्लाउड रेंट पर ले रहे हैं। इंजीनियरिंग स्टूडेंट्स के एक ग्रुप ने अपने माइनर प्रोजेक्ट्स के तहत एटीएम थेफ्ट को रोकने के लिए एक प्रोजेक्ट बनाया है। इसका डेटा स्टोर करने के लिए स्टूडेंट्स ने माइक्रोसॉफ्ट कंपनी का क्लाउड रेंट पर लिया है। इसमें डेटा सिक्योर रहने के साथ स्पेस की भी कोई प्रॉब्लम नहीं होती है।

इसमें server को छोटे छोटे हिस्सों में बाँट दिया जाता है, आपका वेबसाइट को जितनी भी access की जरुरत होगी वो पूरी की पूरी इस्तेमाल करेगा यहाँ पर किसी भी दूसरे ब्लॉग को जगह नहीं मिलेगी. ये सर्वर security में बहुत ही अच्छे और ये Hosting का इस्तेमाल करने के बाद आपका वेबसाइट किसी अलग site से अपना resource share नहीं करेगा. ये आपको unlimited resource की facility देता है जो आपके वेबसाइट के लिए बहुत सही है.
If you are looking for good Amazon deals and bargains, Today’s Deals is the place to come. We are your online one-stop shop for savings and specials on our products. Need a last-minute gift for your spouse, grandmother, or co-worker? You can find great deals from Amazon's Today’s Deals regardless of whether you are looking for items for yourself or your family and friends.
(function(){"use strict";function u(e){return"function"==typeof e||"object"==typeof e&&null!==e}function s(e){return"function"==typeof e}function a(e){X=e}function l(e){G=e}function c(){return function(){r.nextTick(p)}}function f(){var e=0,n=new ne(p),t=document.createTextNode("");return n.observe(t,{characterData:!0}),function(){t.data=e=++e%2}}function d(){var e=new MessageChannel;return e.port1.onmessage=p,function(){e.port2.postMessage(0)}}function h(){return function(){setTimeout(p,1)}}function p(){for(var e=0;et.length)&&(n=t.length),n-=e.length;var r=t.indexOf(e,n);return-1!==r&&r===n}),String.prototype.startsWith||(String.prototype.startsWith=function(e,n){return n=n||0,this.substr(n,e.length)===e}),String.prototype.trim||(String.prototype.trim=function(){return this.replace(/^[\s\uFEFF\xA0]+|[\s\uFEFF\xA0]+$/g,"")}),String.prototype.includes||(String.prototype.includes=function(e,n){"use strict";return"number"!=typeof n&&(n=0),!(n+e.length>this.length)&&-1!==this.indexOf(e,n)})},"./shared/require-global.js":function(e,n,t){e.exports=t("./shared/require-shim.js")},"./shared/require-shim.js":function(e,n,t){var r=t("./shared/errors.js"),i=(this.window,!1),o=null,u=null,s=new Promise(function(e,n){o=e,u=n}),a=function(e){if(!a.hasModule(e)){var n=new Error('Cannot find module "'+e+'"');throw n.code="MODULE_NOT_FOUND",n}return t("./"+e+".js")};a.loadChunk=function(e){return s.then(function(){return"main"==e?t.e("main").then(function(e){t("./main.js")}.bind(null,t))["catch"](t.oe):"dev"==e?Promise.all([t.e("main"),t.e("dev")]).then(function(e){t("./shared/dev.js")}.bind(null,t))["catch"](t.oe):"internal"==e?Promise.all([t.e("main"),t.e("internal"),t.e("qtext2"),t.e("dev")]).then(function(e){t("./internal.js")}.bind(null,t))["catch"](t.oe):"ads_manager"==e?Promise.all([t.e("main"),t.e("ads_manager")]).then(function(e){undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined}.bind(null,t))["catch"](t.oe):"publisher_dashboard"==e?t.e("publisher_dashboard").then(function(e){undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined,undefined}.bind(null,t))["catch"](t.oe):"content_widgets"==e?Promise.all([t.e("main"),t.e("content_widgets")]).then(function(e){t("./content_widgets.iframe.js")}.bind(null,t))["catch"](t.oe):void 0})},a.whenReady=function(e,n){Promise.all(window.webpackChunks.map(function(e){return a.loadChunk(e)})).then(function(){n()})},a.installPageProperties=function(e,n){window.Q.settings=e,window.Q.gating=n,i=!0,o()},a.assertPagePropertiesInstalled=function(){i||(u(),r.logJsError("installPageProperties","The install page properties promise was rejected in require-shim."))},a.prefetchAll=function(){t("./settings.js");Promise.all([t.e("main"),t.e("qtext2")]).then(function(){}.bind(null,t))["catch"](t.oe)},a.hasModule=function(e){return!!window.NODE_JS||t.m.hasOwnProperty("./"+e+".js")},a.execAll=function(){var e=Object.keys(t.m);try{for(var n=0;n=c?n():document.fonts.load(l(o,'"'+o.family+'"'),s).then(function(n){1<=n.length?e():setTimeout(t,25)},function(){n()})}t()});var w=new Promise(function(e,n){a=setTimeout(n,c)});Promise.race([w,m]).then(function(){clearTimeout(a),e(o)},function(){n(o)})}else t(function(){function t(){var n;(n=-1!=y&&-1!=g||-1!=y&&-1!=v||-1!=g&&-1!=v)&&((n=y!=g&&y!=v&&g!=v)||(null===f&&(n=/AppleWebKit\/([0-9]+)(?:\.([0-9]+))/.exec(window.navigator.userAgent),f=!!n&&(536>parseInt(n[1],10)||536===parseInt(n[1],10)&&11>=parseInt(n[2],10))),n=f&&(y==b&&g==b&&v==b||y==x&&g==x&&v==x||y==j&&g==j&&v==j)),n=!n),n&&(null!==_.parentNode&&_.parentNode.removeChild(_),clearTimeout(a),e(o))}function d(){if((new Date).getTime()-h>=c)null!==_.parentNode&&_.parentNode.removeChild(_),n(o);else{var e=document.hidden;!0!==e&&void 0!==e||(y=p.a.offsetWidth,g=m.a.offsetWidth,v=w.a.offsetWidth,t()),a=setTimeout(d,50)}}var p=new r(s),m=new r(s),w=new r(s),y=-1,g=-1,v=-1,b=-1,x=-1,j=-1,_=document.createElement("div");_.dir="ltr",i(p,l(o,"sans-serif")),i(m,l(o,"serif")),i(w,l(o,"monospace")),_.appendChild(p.a),_.appendChild(m.a),_.appendChild(w.a),document.body.appendChild(_),b=p.a.offsetWidth,x=m.a.offsetWidth,j=w.a.offsetWidth,d(),u(p,function(e){y=e,t()}),i(p,l(o,'"'+o.family+'",sans-serif')),u(m,function(e){g=e,t()}),i(m,l(o,'"'+o.family+'",serif')),u(w,function(e){v=e,t()}),i(w,l(o,'"'+o.family+'",monospace'))})})},void 0!==e?e.exports=s:(window.FontFaceObserver=s,window.FontFaceObserver.prototype.load=s.prototype.load)}()},"./third_party/tracekit.js":function(e,n){/**
वर्चुअलाइजेशन, कम्प्यूटरीकृत ढांचे को भौतिक वातावरण से अलग करता है। वर्चुअलाइजेशन आपको एक ही सिस्टम पर विभिन्न ऑपरेटिंग सिस्टम और एप्लिकेशन चलाने में मदद करता है। वर्चुअलाइजेशन वह तकनीक है जो आपको एकल, भौतिक हार्डवेयर सिस्टम से कई नकली वातावरण या समर्पित संसाधन बनाने की अनुमति देती है। वर्चुअलाइजेशन के माध्यम से, हम सर्वर समेकन की योजना बनाते हैं जिसके द्वारा हम विभिन्न कार्यक्षमता के साथ कई सर्वर बनाए रखते हैं। सर्वर वर्चुअलाइजेशन आपको कई प्रयोजनों के लिए एक ही सर्वर के भार को संतुलित करने के लिए संसाधनों को विभाजित करने की अनुमति देता है। वर्चुअलाइजेशन सॉफ्टवेयर आपको एक भौतिक सर्वर के संसाधनों को कई अलग-अलग आभासी वातावरण बनाने के लिए विभाजित करता है।

लेखक वीडियो चैट स्क्रिप्ट<अवधि वर्ग "तैनात पर" => प्रकाशित किया गया है मई 5, 2015फ़रवरी 12, 2019श्रेणियाँ वीडियो स्ट्रीमिंगटैग 1000एमबीपीएस, 100टीबी, 1080पी, 1440पी, 240पी, 2k, 360पी, 480पी, 4k, 720पी, बैंडविड्थ, बिटरेट, बिट्स, प्रसारण, बाइट्स, क्लाइंट, codecs, तुलना, संपीड़न, संबंध, ffmpeg, फ़्लैश, FullHD, h264, मेजबानी, जीना, गुणवत्ता, की सिफारिश की, रिकॉर्ड, आवश्यकताएँ, संकल्प, सर्वर, स्ट्रीमिंग, स्थानांतरण, वीडियो3 टिप्पणियां पर संकल्प पर आधारित अनुशंसित H264 वीडियो बिटरेट


शेयर्ड होस्टिंग का मतलब होता है होस्टिंग को शेयर करना इसमे एक सर्वर होता है जिसमे बहोत सारे वेबसाइट एक साथ होते है और ये सरे वेबसाइट इस होस्टिंग को शेयर करते है जिस तराह हम एक रूम मे अपने दोस्तों के साथ एक साथ रहते रहते है   और उसका किराया शेयर करते है शेयर्ड होस्टिंग भी इसी तराह से काम करता है जिसमे एक सर्वर होता है जहा पे हजारो वेबसाइट होती है और हर वेबसाइट अपना अपना किराया वेब होस्टिंग कंपनी को देता है इस होस्टिंग को उसे करने के बहोत से फायदे भी है और नुकशान भी आइये इन्हें जान लेते है

क्लाउड होस्टिंग, आमतौर पर आम आदमी का विकल्प नहीं है। जब आप क्लाउड होस्टिंग की खोज करते हैं तो यह सीखने के लिए बहुत कुछ होता है, और यह अन्य नियंत्रण पैनल के रूप में आसान नहीं दिख सकता है हालांकि आजकल कई होस्टिंग प्रदाता क्लाउड होस्टिंग में परंपरागत होस्टिंग विधियों के साथ मिल रहे हैं। क्लाउड होस्टिंग मूल रूप से आपको वीपीएस देती है, जो कंप्यूटर के बड़े नेटवर्क से अपने संसाधनों को खींचती है, और इसलिए आपको इसके साथ काम करने की आवश्यकता है। असल में अगर आप साझा होस्टिंग की तलाश कर रहे हैं तो क्लाउड होस्टिंग आपके लिए नहीं है। क्लाउड होस्टिंग के लिए साइन अप करते समय कुछ कारक आपको अवगत होने की आवश्यकता है।
सी / बी। किसी भी साझा या पुनर्विक्रेता खाते पर दो सौ पचास हजार (250,000) इनोड का उपयोग चेतावनी हो सकता है, और यदि इनोड के अत्यधिक उपयोग को कम करने के लिए कोई कार्रवाई नहीं की जाती है, तो आपका खाता निलंबित कर दिया जा सकता है। यदि एक खाता एक सौ हजार (100,000) इनोड से अधिक है तो इसे अधिक उपयोग से बचने के लिए स्वचालित रूप से हमारे बैकअप सिस्टम से हटा दिया जाएगा, हालांकि, डेटाबेस को अभी भी हमारे विवेक में सौजन्य के रूप में बैक अप लिया जाएगा।
×